भारत की बढ़ती ताकत देख कर बौखलाया चीन, लद्दाख बॉर्डर पर बढ़ी तनाव !

भारत की बढ़ती हुयी ताकत और अन्तर्राष्ट्रीय सपोर्ट को देख कर चीन लदाख  के बॉर्डर पर भारत और चीन के बिच पिछले कई दिनों से झड़प चल रही है ! जैसा की आपलोगो को पता है की कोरोना वायरस चीन के वुहान शहर से निकला था और पुरे दुनिया में फ़ैल गया !

कोरोना वायरस के कारन सभी बड़े देश चीन से नाराज है तो वही सारे बड़े कम्पनिया वहा से निकल कर भारत में सिफ्ट होने वाले है लगभग 1000 से ज्यादा छोटी बड़ी कम्पनिया भारत आने वाले है !  तो वही जो WHO वर्ल्ड हेल्थ आर्गेनाईजेशन पहले चीन का सपोर्ट कर रहा था उसका  नेतृत्वा भी अब भारत के हाथ में है !

इसी भारत के बढ़ते हुए ताकत को देख कर चीन लदाख के कुछ इलाके के बॉर्डर पर झड़प करनी सुरु कर दी है ! ये झड़प 1962 भारत चाइना युद्ध के बाद अब तक की सबसे बड़ी झड़प बताई जा रही है! और चीन अपनी सैनिको को बढ़ा रहा है !

इधर आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने तीनो सेना प्रमुख के साथ बैठक की ! इसमें चीफ ऑफ़ डिफेंस स्टाफ जेनेरल विपिन रावत भी मौजूद थे ! इसके बाद इसी मुद्दे पर प्रधान मंत्री कार्यालय में भी एक और बैठक हुयी !

आपको बता दे की ये झड़प भारत के बढ़ते इंफ्रास्ट्रचर को लेकर भी हो सकता है ! आपको बता दे की भारत अपने बॉर्डर पर सड़क निर्माण का काम काफी तेज़ी से चल रहा है ! जिससे बॉर्डर पर टनल भी तैयार किया जा रहा है जिसकी वजह से बारिश और बर्फ़बारी में भी सैनिको के पास जरुरत के सामान जल्द से जल्द पहुंचाया जा सकता है इस बात से भी चीन को परेशानी हो सकती है  !

techyindia

आपको बता दे की चीन इस मुद्दे पर कोई बात नहीं करना चाह रहा और चीन ने इसके विवाद के लिए भारत को ही जिम्मेदार ठेहरा रहा है ! जबकि इन सब के बिच भारत और चीन के कुछ उच्च अधिकारी इस मामले को समझाने की कोसिस कर रहे है ! आपको बता दे की चीन दुनिया का ध्यान भटकाने के लिए इस मुद्दे को सुलझाना भी नहीं चाहता !

इसके बाद आज लदाख में चीन और भारतीय सैनिको के बिच लाइन ऑफ़ एक्चुअल कण्ट्रोल (LAC) पर झड़प को लेकर पीएम ऑफिस में एक मीटिंग हुयी है ! इसमें NSA अजित डोभाल और तीनो सेनाओ के प्रमुख शामिल थे ! इस मीटिंग में लदाख में सिमा विवाद पर लदाख और चीन के मुद्दे पर चर्चा हुयी है ! इसमें ये फैसला लिया गया है की भारत भी चीन के बराबर बॉर्डर पर अपनी सैनिक बढ़ाता रहेगा !

और साथ ही साथ उस इलाके में सड़क का काम भी चलता रहेगा ! आपको बता दे की पूर्वी लदाख इलाके की पूरी  पैंगोंग झील पर चीन की नजर है ! इसके बाद भारतीय सैनिको ने पूर्वी लद्दाख इलाके के पांगोंग त्सो (Tso) और गलवान घाटी पर निगरानी बढ़ा दी है ! इसपे भारत का स्टैंड बिलकुल साफ है की बात चित भी होगी लेकिन अपने पोजीशन को किसी भी हाल में नहीं छोड़ा जायेगा ! जिस तरह डोकलाम के मुद्दे पर हुआ था ! आपको बता दे की डोकलाम पर चाइना को पीछे हटना पड़ा था!

Please follow and like us:

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *